Sources of Renewable Energy in Hindi

(Renewable energy in Hindi) also called 'Alternative Energy' is the energy that is generated by natural processes.

नवीकरणीय ऊर्जा के स्रोत | Sources of Renewable Energy in Hindi

रिन्यूएबल एनर्जी (Renewable Energy in Hindi) को हिंदी में अक्षय ऊर्जा कहते हैं। इस ऊर्जा को समाप्त नहीं किया जा सकता है और इसे लगातार उत्त्पन किया जा सकता है। इसलिए इसे अक्षय ऊर्जा कहते हैं। अक्षय ऊर्जा वह ऊर्जा है जो प्राकृतिक प्रक्रियाओं से उत्पन्न होती है।

इसमें किसी भी प्रकार से रिन्यूएबल एनर्जी उत्त्पन्न की जा सकती है जैसे – सूरज की रोशनी, भूतापीय गर्मी (Geothermal Heat), हवा (Wind), ज्वार (tides), पानी (Water) और बायोमास (Biomass) आदि।

जब आप ‘वैकल्पिक ऊर्जा’ शब्द सुनते हैं तो इसका मतलब वहां पर भी रिन्यूएबल एनर्जी की बात हो रही है। रिन्यूएबल एनर्जी को ‘वैकल्पिक ऊर्जा’ भी कहते हैं। वैकल्पिक ऊर्जा किसी ऊर्जा स्रोत के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है जिसे जीवाश्म ईंधन (fossil fuels) की जगह उपयोग किया जाता है। जीवाश्म ईंधन (fossil fuels) के अंतर्गत तेल, गैस और कोयले आदि ऊर्जा के स्रोत आते हैं।

आम तौर पर, वैकल्पिक ऊर्जा का मतलब उस ऊर्जा से है जिसका पर्यावरण पर दुष्प्रभाव कम से कम या ना के बराबर हो।

अक्षय ऊर्जा स्रोत नहीं है? | Not a Renewable Energy Source in Hindi?

जीवाश्म ईंधन को ऊर्जा का अक्षय स्रोत नहीं होते हैं क्योंकि वे वक्त के साथ साथ ख़त्म होते जाते हैं, साथ ही साथ जीवाश्म ईंधन के उपयोग से हमारे वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड पैदा होती हैं जो जलवायु परिवर्तन होने और ग्लोबल वार्मिंग के बढ़ने का मुख्य कारण है।

इस प्रकार की अक्षय ऊर्जा कैसे काम करती है और इसे कौन कौन से स्रोतों से उत्पन्न किया जा सकता है, रिन्यूएबल एनर्जी को विभिन्न स्रोतों से उत्पन्न किया जाता है जैसे –

  • सौर ऊर्जा | Solar Energy in Hindi
  • पवन ऊर्जा | Wind Power in Hindi
  • पनबिजली ऊर्जा | Hydro Energy in Hindi
  • ज्वारीय ऊर्जा | Tidal Energy in Hindi
  • भूतापीय ऊर्जा | Geothermal Energy in Hindi
  • बायोमास ऊर्जा | Biomass Energy in Hindi

सौर ऊर्जा | Solar Energy in Hindi

सूर्य का प्रकाश हमारे ग्रह के लिए सबसे प्रचुर और मुक्त रूप से उपलब्ध ऊर्जा संसाधनों में से एक है। एक घंटे में पृथ्वी की सतह तक पहुंचने वाली सौर ऊर्जा की मात्रा पूरे वर्ष के लिए ग्रह की कुल ऊर्जा आवश्यकताओं से भी अधिक है।

यह सुनने में तो बहुत मजेदार है लेकिन हम इस सम्पूर्ण सौर ऊर्जा का इस्तेमाल नहीं कर सकते क्योंकि ऐसा संभव नहीं है। हम जिस सौर ऊर्जा का उपयोग कर सकते हैं वह दिन के समय और वर्ष के मौसम के साथ-साथ भौगोलिक स्थिति के अनुसार भिन्न भिन्न होती है।

भारत में शीर्ष पांच सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र के बारे में जानने के लिए क्लिक करें। NS Energy

Solar Energy in Hindi
Solar Energy in Hindi

पवन ऊर्जा | Wind Power Renewable Energy in Hindi

हवा स्वच्छ ऊर्जा का प्रचुर स्रोत है। पवन ऊर्जा द्वारा टरबाइन के ब्लेड को घुमाया जाता है, और उससे बिजली पैदा करने के लिए उसे एक विद्युत जनरेटर से जोड़ दिया जाता है।

पनबिजली ऊर्जा | Hydro Energy in Hindi

अक्षय ऊर्जा संसाधन के रूप में, जल विद्युत सबसे अधिक व्यावसायिक रूप से विकसित ऊर्जा संसाधनों में से एक है। बड़े जलाशयों पर बांध का निर्माण करके, पानी के नियंत्रित प्रवाह को टरबाइन पर गिराया जाता है, और उससे बिजली पैदा की जाती है। यह ऊर्जा स्रोत सौर या पवन ऊर्जा की तुलना में अधिक विश्वसनीय है।

Hydro Energy in Hindi
Hydro Energy in Hindi

ज्वारीय ऊर्जा | Tidal Energy in Hindi

यह पनबिजली का ही दूसरा रूप है जिसमें टरबाइन जनरेटर चलाने के लिए ज्वारीय धाराओं का उपयोग किया जाता है।

Tidal Energy in Hindi
Tidal Energy in Hindi

भूतापीय ऊर्जा | Geothermal Energy in Hindi

ग्रह के केंद्र में चट्टानों में रेडियोधर्मी कणों के धीमी गति से क्षय होने के कारण पृथ्वी का कोर सूर्य की सतह जितना गर्म है। पृथ्वी की सतह के नीचे की प्राकृतिक गर्मी का उपयोग करके, भूतापीय ऊर्जा का उपयोग बिजली उत्पन्न करने के लिए किया जाता है।

Geothermal in Hindi
Geothermal in Hindi

बायोमास ऊर्जा | Biomass Energy in Hindi

बायोमास कार्बनिक पदार्थ होते हैं जो पौधों और जानवरों से आते है इसमें फसलें, बेकार लकड़ी और पेड़ आदि शामिल हैं। जब बायोमास को जलाया जाता है, तो रासायनिक ऊर्जा ऊष्मा के रूप में निकलती है जिससे भाप टरबाइन द्वारा बिजली उत्पन्न की जाती है। इसका अध्ययन बायोलॉजी के साथ किया जाता है।

Biomass Energy in Hindi
Biomass Energy in Hindi
Share your love
Awanish Kumar
Awanish Kumar
Articles: 52

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!