Cloud Storage क्या है, Model, Types of Cloud Storage in Hindi

Cloud storage is a cloud computing service model in which data is stored and transmitted over remote storage systems.

क्लाउड स्टोरेज क्या है (Cloud Storage in Hindi)

क्लाउड स्टोरेज (Cloud Storage in Hindi) एक क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस मॉडल है जिसमें डेटा को रिमोट स्टोरेज सिस्टम पर स्टोर और ट्रांसमिट किया जाता है। क्लाउड स्टोरेज, बिज़नेस के लिए डेटा को क्लाउड में स्टोर करने का एक तरीका है। इसे इंटरनेट की उपलब्धता होने पर किसी भी स्थान से कभी भी एक्सेस किया जा सकता है और सेलेक्टेड लोगों के साथ आसानी से शेयर किया जा सकता है।

कंप्यूटर हार्ड ड्राइव केवल सीमित मात्रा में डेटा स्टोर कर सकते हैं जब आपकी स्टोरेज डिवाइस फुल हो जाती है तो फ़ाइलों को किसी दूसरी डिवाइस में ट्रांसफर करना पड़ता है। हार्ड ड्राइव या स्टोरेज नेटवर्क पर फाइलों को स्टोर करने की अपेक्षा क्लाउड स्टोरेज एक बेहतरीन विकल्प है। जिसमें डेटा रिकवरी और बैकअप जैसी अन्य बहुत से फीचर्स मिलते है।

ऑर्गनाइज़ेशन डेटा और फाइलों को स्टोर करने के लिए स्टोरेज एरिया नेटवर्क (SAN) का उपयोग करते है  जैसे-जैसे स्टोर किये हुए डेटा की मात्रा बढ़ती है, कंपनियों को बढ़ी हुई स्टोरेज क्षमता को पूरा  करने के लिए सर्वर और इंफ्रास्ट्रक्चर में बार बार निवेश करना पड़ता है। जिस कारण से इसकी लागत और रखरखाव क्लाउड स्टोरेज की तुलना में बहुत अधिक है।

आप वेब पोर्टल, वेबसाइट या मोबाइल ऐप का उपयोग करके इंटरनेट या डेडिकेटेड प्राइवेट कनेक्शन का उपयोग करके क्लाउड स्टोरेज से कनेक्ट हो सकते है। क्लाउड स्टोरेज से यूजर और बिज़नेस इंटरनेट से जुड़े डिवाइसेस के माध्यम से डेटा को स्टोर और रिकवर कर सकते है।

क्लाउड स्टोरेज वेब-आधारित एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस (API) के माध्यम से ऑपरेट होता है।

क्लाउड स्टोरेज मॉडल के प्रकार (Types of Cloud Storage Model in Hindi)

विभिन्न एक्सेस मॉडल के आधार पर क्लाउड स्टोरेज तीन प्रकार के होते हैं –

  • प्राइवेट क्लाउड (Private Cloud)
  • पब्लिक क्लाउड (Public Cloud)
  • हाइब्रिड क्लाउड (Hybrid Cloud)
Cloud Storage Model in Hindi
Cloud Storage Model in Hindi

पब्लिक क्लाउड स्टोरेज (Public Cloud Storage in Hindi)

इस मॉडल में, आप इंटरनेट द्वारा एक क्लाउड स्टोरेज से कनेक्ट होते हैं जिसे एक क्लाउड प्रोवाइडर द्वारा मेन्टेन और ऑपरेट किया जाता है। इसे कंपनियों और यूजर्स के द्वारा उपयोग किया जाता है। क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर्स आमतौर पर स्मार्टफोन और डेस्कटॉप सहित किसी भी डिवाइस से क्लाउड स्टोरेज को एक्सेसिबल बनाते हैं। इन सर्विस प्रोवाइडर में मुख्यतः ये कंपनियां विश्व में सबसे अग्रणी है –

  • Google Cloud Storage
  • Amazon Simple Storage Service (S3)
  • Microsoft Azure

प्राइवेट क्लाउड स्टोरेज (Private Cloud Storage in Hindi)

प्राइवेट क्लाउड स्टोरेज सेटअप आमतौर पर क्लाउड मॉडल का ही रेप्लिकेट होता हैं लेकिन ये क्लाउड स्टोरेज एक ही नेटवर्क में होता है। इसमें ऑर्गेनाइजेशन अपना स्वयं का क्लाउड स्टोरेज बनाते है जिसे प्राइवेट कनेक्शन के माध्यम से एक्सेस किया जाता है और अन्य कंपनियों द्वारा इसका उपयोग नहीं किया जा सकता है।

प्राइवेट क्लाउड स्टोरेज को ज्यादातर बैंक या रिटेल कंपनियां/ऑर्गेनाइजेशन प्राथमिकता देते हैं, वे ऐसा डेटा की गोपनीयता और यूज़र की सुरक्षा के मद्देनज़र करते हैं।

हाइब्रिड क्लाउड स्टोरेज (Hybrid cloud storage in Hindi)

यह मॉडल प्राइवेट और पब्लिक क्लाउड का कॉम्बिनेशन है, जिससे ऑर्गनाइज़ेशन  को यह विकल्प मिलता है कि किस क्लाउड में कौन सा डेटा स्टोर किया जाए।

इसमें यूजर संवेदनशील जानकारी को एक निजी क्लाउड में स्टोर करता है और जो डेटा संवेदनशील नहीं है उसे स्टोर करने के लिए सार्वजनिक क्लाउड स्टोरेज सर्विसेज का उपयोग करता है।

क्लाउड स्टोरेज के लाभ (Benefits of Cloud Storage)

क्लाउड स्टोरेज के कई लाभ है। कुछ इस प्रकार है –

  • कम सेटअप लागत (Less Setup cost)
  • कोई मेंटेनेंस नही (no maintenance)
  • आसान सेटअप (easy setup)
  • उपयोग के अनुसार भुगतान (pay per use)
  • वैश्विक उपलब्धता (Global availability)

क्लाउड स्टोरेज के प्रकार (Types of Cloud Storage in Hindi)

क्लाउड स्टोरेज के तीन मुख्य प्रकार हैं: ब्लॉक, फाइल और ऑब्जेक्ट। प्रत्येक स्टोरेज की अपनी विशेषताएं है –

Types of Cloud Storage in Hindi
Types of Cloud Storage in Hindi

ब्लॉक स्टोरेज (Block storage)

ब्लॉक स्टोरेज में बिग डेटा को छोटी यूनिट्स में डिवाइड कर दिया जाता है जिन्हें ब्लॉक कहा जाता है। प्रत्येक ब्लॉक एक यूनिक आइडेंटिफायर से एसोसिएट होता है।

फाइल स्टोरेज (File Storage)

फाइल स्टोरेज सिस्टम में डेटा फाइलों में स्टोर होता है, और फाइलें फ़ोल्डर्स में स्टोर होती हैं। जैसा कि हम आमतौर पर अपनी हार्ड ड्राइव में डेटा स्टोर करते समय करते है। फ़ाइल स्टोरेज में डेटा को फ़ाइलों और फ़ोल्डरों को एक श्रेणीबद्ध सिस्टम (Hierarchical Sytem) द्वारा ऑर्गनाइज़ किया जाता है। डायरेक्ट्रीज और सब-डायरेक्ट्रीज का उपयोग फ़ोल्डरों को ऑर्गनाइज़ करने और फ़ाइलों और डेटा का पता लगाने के लिए किया जाता है।

ऑब्जेक्ट स्टोरेज (Object Storage)

ऑब्जेक्ट स्टोरेज फ़ाइल स्टोरेज और ब्लॉक स्टोरेज से अलग होता है। ऑब्जेक्ट स्टोरेज में डेटा को ऑब्जेक्ट के रूप में स्टोर किया जाता है, जिसके तीन कॉम्पोनेन्ट होते हैं:

  • पहला फ़ाइल में स्टोर डेटा,
  • दूसरा डेटा फ़ाइल से एसोसिएट मेटाडेटा और
  • तीसरा एक यूनिक आइडेंटिफायर।

क्लाउड स्टोरेज सर्विस प्रोवाइडर्स (Cloud Storage Service Providers)

वर्तमान में क्लाउड-आधारित स्टोरेज मार्केट में Amazon Web Services, Google और Microsoft Azure का वर्चस्व है। इसके अलावा कुछ ऑनलाइन फ़ाइल स्टोरेज सर्विसेज, जैसे कि बॉक्स और ड्रॉपबॉक्स, बिज़नेस-टू-कंज्यूमर (B2C) क्लाउड स्टोरेज सर्विस और बिज़नेस-टू-बिज़नेस (B2B) क्लाउड स्टोरेज सर्विस के साथ मार्केट में है।

आज, लोगों के पास गूगल ड्राइव (Google Drive), अमेज़न ड्राइव (Amazon Drive) और ड्रॉपबॉक्स (Dropbox) जैसी कई मुफ्त क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाओं तक आसान पहुंच है।

ड्रॉपबॉक्स (Drop Box)

ड्रॉपबॉक्स एक क्लाउड होस्टिंग सर्विस है जो आपको अपनी फाइलों को ऑनलाइन स्टोर करने और शेयर करने की अनुमति देती है और जब भी आवश्यक हो डेटा को आसानी से एक्सेस और डाउनलोड कर सकते है। ड्रॉपबॉक्स में फाइलों को बहुत ही आसान तरह से साझा (Share) और स्टोर कर सकते है।

गूगल ड्राइव (Google Drive)

गूगल ड्राइव में फाइलों को आसानी से स्टोर और सिस्टम के साथ सिंक्रोनाइज़ कर सकते है। इसे स्मार्टफोन, लैपटॉप, पीसी या टैबलेट से कभी भी कहीं भी एक्सेस कर सकते है।

अमेज़न ड्राइव (Amazon Drive)

इस क्लाउड स्टोरेज सर्विस को पहले अमेज़न क्लाउड ड्राइव के नाम से जाना जाता था। अमेज़न ड्राइव में फोटोप्रिंटिंग, स्टोरेज, फाइल शेयरिंग और फाइल बैकअप जैसी विभिन्न सुविधाएं मिलती है। इसमें डेटा को लैपटॉप, स्मार्टफोन, टैबलेट या पीसी किसी भी डिजिटल उपकरण से अपनी फाइल को एक्सेस, शेयर और ऑर्गेनाइज कर सकते है।

वनड्राइव (One Drive)

माइक्रोसॉफ्ट की वनड्राइव में भी फाइल होस्टिंग और सिंक्रोनाइज़ेशन बहुत आसान है। वनड्राइव आपको अपने पीसी या मैक से विभिन्न फाइलें अपलोड करने, इन फाइलों को दूसरों के साथ साझा करने और दूसरों को आपकी फाइलों को देखने या एडिट करने जैसे कई फीचर्स देता है।

Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!