Causes, Effects and Solution of Water Pollution in Hindi

you think that water pollution (Hindi) is a problem of some distant place or somewhere else - then you are wrong.

Causes Effects Solution of Water Pollution in Hindi

हमारे पीने योग्य जल स्रोत सीमित हैं: पृथ्वी के मीठे पानी का 1 प्रतिशत से भी कम वास्तव में हमारे पीने के लिए उपलब्ध है। हो सकता है एक गिलास साफ पानी पीते हुए और इस पोस्ट को पढ़ते हुए आप सोच रहे होंगे कि जल प्रदूषण (Water Pollution) कहीं दूर किसी जगह की या कहीं और की समस्या है – तो आप गलत हैं।

असुरक्षित पानी हर साल युद्ध और अन्य सभी प्रकार की हिंसा की तुलना में अधिक लोगों की जान लेता है।

जल उन सबसे महत्वपूर्ण वस्तुओं में से एक है जिसका मनुष्य ने अपने जीवन के निर्वाह के लिए किसी भी अन्य संसाधन की तुलना में दोहन किया है। हमारी नदियाँ, जलाशय, झीलें और समुद्र ये सभी केमिकल्स, कचरा, और प्लास्टिक आदि प्रदूषकों (ऐसा पदार्थ जो किसी चीज को प्रदूषित करता है) से भरते जा रहे हैं। जबकि हम सभी जानते हैं कि पानी जीवन के लिए महत्वपूर्ण है, हम इसे लगातार बर्बाद और प्रदूषित कर रहे हैं।

इसमें अन्य पदार्थों को घोलने की इतनी प्रबल प्रवृत्ति होती है इसलिए इसे सार्वत्रिक विलायक (Universal Solvent) भी कहा जाता है इसका कारण काफी हद तक इसकी आणविक संरचना (Molecular Structure) है।

जल प्रदूषण (Water Pollution in Hindi)

शुद्ध पानी, यानी शुद्ध H2O, प्राकृतिक स्थानों में जैसे नदियों, झीलों, भूजल या महासागरों में भी नहीं पाया जाता है इसमें हमेशा कुछ ना कुछ मिला होता है। इस कारण शुद्ध जल और दूषित जल के बीच कोई निश्चित सीमा रेखा नहीं है। इस ग्रह का अधिकांश पानी महासागरों और आइसकैप में जमा है, जिसे हमारी विविध आवश्यकताओं के लिए प्राप्त करना मुश्किल होता है। यह कहा जा सकता है कि पानी में कुछ-न-कुछ मात्रा में गैसों, खनिजों और जीवन की उपस्थिति के कारण कोई भी पानी शुद्ध या स्वच्छ नहीं है।

पानी को तब प्रदूषित माना जा सकता है जब इसकी गुणवत्ता या संरचना को या तो प्राकृतिक रूप से या मानवीय गतिविधियों के परिणामस्वरूप बदल जाती है, जिस कारण से यह पीने, घरेलू, कृषि, औद्योगिक, मनोरंजन, वन्य जीवन और अन्य उपयोगों के लिए कम उपयुक्त हो जाता है। जब उसमें एक निश्चित मात्रा से अधिक बाहरी तत्व मिल जाते है जो इसे किसी विशिष्ट लाभकारी उपयोग जैसे कि पीने, या फिशिंग आदि के लिए अनुपयुक्त बना देते है।

पानी की खराब गुणवत्ता और जल प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण मानवी गतिविधियाँ है। दुनिया का लगभग 80 प्रतिशत प्रदूषित जल – बिना किसी सफाई के वापस पर्यावरण, नदियों, झीलों और महासागरों में फेंक दिया जाता है। जल प्रदूषण की इस समस्या ने पूरे विश्व के लोगों के स्वास्थ्य को खतरे में डाल दिया है।

जल प्रदूषण के कारण (Causes of Water Pollution in Hindi)

महासागरों को ही ले लें: लगभग 80 प्रतिशत प्रदूषण हमारे समुद्रों में भूमि से जाता है। भूमि पर होने वाली कोई भी मानवीय गतिविधि हमारे जलीय पर्यावरण की गुणवत्ता पर प्रभाव डाल सकती है। जैसे जब किसान खेतों में खाद डालते हैं, तो वे जिन रसायनों का उपयोग करते हैं, वे बारिश से धीरे-धीरे भूजल या आस-पास के सतही जल में धुल जाते हैं

या फिर कई बार जल प्रदूषण के कारण काफी चौंकाने वाले होते हैं जैसे चिमनियों द्वारा छोड़े गए रसायन वातावरण में प्रवेश कर जाते हैं फिर बारिश के रूप में वापस पृथ्वी पर गिरते हैं, जिससे समुद्र, नदियों और झीलों में प्रवेश कर सकते हैं और जल प्रदूषण का कारण बन सकते हैं। वैसे इसे वायुमंडलीय निक्षेपण (atmospheric deposition) कहते हैं। जल प्रदूषण के कई अलग-अलग कारण होते हैं इसलिए इसे हल करना इतनी कठिन समस्या है।

जब जीवन को बचाये रखने की बात आती है तो पानी पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है। जल प्रदूषण के कई कारण हैं। नीचे, हम उन सात प्रमुख तरीकों पर ध्यान देंगे जिनसे पानी प्रदूषित हो सकता है।

  • औद्योगिक अपशिष्ट (Industrial Waste)
  • मरीन डंपिंग (Marine Dumping)
  • सीवेज और बेकार जल (Sewage and Waste Water)
  • एग्रीकल्चर (Agriculture)
  • रेडियोएक्टिव अपशिष्ट (Radioactive Waste)

जल प्रदूषण समाधान (Water Pollution Solutions in Hindi)

जल प्रदूषण समाधान के कई प्रभावी तरीके हैं जो इस लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायता कर सकते हैं –

  • अपशिष्ट जल का ट्रीटमेंट (Waste Water Treatment)
  • प्लास्टिक कचरे में कमी (Plastic Waste Reduction)
  • जल संरक्षण (Water Conservation)
  • हरित कृषि (Green Agriculture)
  • अनाइट्रीकरण (Denitrification)

मानव स्वास्थ्य पर जल प्रदूषण के प्रभाव (Effects of Water Pollution on Human Health in Hindi)

जल प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है, जब विशेष रूप से मानव स्वास्थ्य देखें, तो जल प्रदूषण के निम्न प्रकार से नुकसानदायक हो सकता है –

  • हर साल लाखों मौतों का कारण
  • कैंसर की संभावना का बढ़ना
  • लिवर डैमेज की समस्या होना
  • रीढ़ की हड्डी को नुकसान होना

जब भी और जितना भी आप कर सकते हैं जल प्रदूषण को अपने स्तर से रोकना ही सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि यह प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है। आज से जल प्रदूषण को कम करने के लिए, आप कुछ शुरुआती कदम उठा सकते हैं जिनमें पानी का संरक्षण, कम प्लास्टिक का उपयोग करना और यह सुनिश्चित करना कि शौचालय में बेकार में पानी बर्बाद ना होना।

Share your love
Awanish Kumar
Awanish Kumar
Articles: 52

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!